दिल की दास्तान……. प्रेमी दिल के अफसाने.

दिल की दास्तान……. प्रेमी दिल के अफसाने.
 
                      अब क्या जवाब दू मै,कोई मुझे बतादे,
                      à¤µà¥‹ मुजसे कह रहे है क्यों मेरी आरजू की !
एक बार दिल ने की थी तेरी आरजू की भूल,
जालिम मुसीबतों में गिरफ्तार हो गया,..
                      तुजे मिले न थे , तो कोई आरजू न थी,
                      देखा तुजे तो तेरे तलबगार हो गये.
यह आरजू थी तुजे गुल के रु-ब-रु करते,
हम और बुल बुल बेताब गुफ्तगू करते.
                      एक आरजू थी अपनी जगह,मुस्तकिल रही,
                      जब वो करीब आये तो हम दूर हो गये.
मजा जीने का आखिर दिल लगाने पर ही मिलाता है,
किसी पर ! देख लेना था ! फ़िदा होकर.
                      नज़र में ढल के उभरते है,दिल के अफसाने,
                      यह और बात है, दुनिया नजर न पहेचाने.
मुद्दत हुई इक हादसे ऐ- à¤‡à¤¶à¥à¤• को लेकिन,
अब तक याद है,तेरे दिल के धड़कने की सदा याद.

Author: rajnissh

Share This Post On

Submit a Comment

Your email address will not be published.